Kahani Suno

Kahani Suno by Sameer Goswami

Sameer Goswami

Welcome to the great world of greatest stories. Narrated by Sameer Goswami

Categories: Society & Culture

Listen to the last episode:

गोदान, प्रेमचंद का एक अविस्मरणीय उपन्यास है, जो भारतीय ग्रामीण जीवन की कठोर वास्तविकता, सामाजिक असमानता और मानवीय संघर्षों को बखूबी चित्रित करता है। इसकी कहानी होरी नामक एक गरीब किसान के इर्द-गिर्द घूमती है, जो अपनी जमीन को बचाने के लिए हताश प्रयास करता है।


उपन्यास का मुख्य संघर्ष होरी की ज़मीन को बचाने की उसकी सख्त इच्छा से उपजता है। वह कर्ज से दबा हुआ है और जमींदार उसे लगातार परेशान करता है। अपनी साख बनाए रखने और खुद को इज्जतदार साबित करने के लिए, होरी किसी भी हद तक जाने को तैयार है। वह मेहनत करता है, कर्ज लेता है, और यहां तक ​​कि अपनी बेटी की शादी भी देरी से कर देता है, बस उम्मीद है कि किसी तरह वो अपनी जमीन बचा सकेगा।


लेकिन परिस्थितियां उसके खिलाफ साजिश करती हैं। जमींदार के दबाव, कर्ज के बोझ और अनिश्चितता के चलते, होरी को अंततः अपनी ज़मीन बेचनी पड़ती है। यह घटना उसे अंदर से तोड़ देती है। 


गोदान सिर्फ होरी की कहानी नहीं है, बल्कि पूरे भारतीय ग्रामीण समाज का दर्पण है। यह उपन्यास गरीबी, शोषण, और समाज की जड़ता को उजागर करता है। साथ ही, यह मानवीय संघर्ष, त्याग, और उम्मीद की कहानी भी बयां करता है।


उपन्यास के कुछ प्रमुख बिंदु:


गांव और शहर का कंट्रास्ट: गोदान दो कहानियों का संगम है - पहली, गाँव की ज़िंदगी की कहानी और दूसरी, शहर की ज़िंदगी की कहानी। ये दोनों कहानियां एक-दूसरे से जुड़ी हुई हैं और सामाजिक असमानता का गहरा चित्रण करती हैं।

पात्रों का जटिल चित्रण: होरी के अलावा, उपन्यास में कई अन्य पात्र भी हैं, जिन्हें प्रेमचंद ने बारीकी से चित्रित किया है। हर पात्र की अपनी उम्मीदें, ख़्वाहिशें और संघर्ष हैं, जो कहानी को और भी ज़्यादा गहराई देते हैं।

सामाजिक मुद्दों का चित्रण: गोदान ग्रामीण समाज से जुड़े कई सामाजिक मुद्दों को उजागर करता है, जैसे गरीबी, भू-स्वामित्व, कर्ज, जाति व्यवस्था, और महिलाओं की स्थिति।

मानवीय मूल्यों का चित्रण: उपन्यास भले ही कठोर सच्चाई को दर्शाता है, लेकिन यह मानवीय मूल्यों का भी उत्थान करता है। होरी की मेहनत, ईमानदारी, और त्याग जैसे गुण पाठकों को प्रेरित करते हैं।

गोदान, प्रेमचंद का एक अविस्मरणीय उपन्यास है, जो भारतीय ग्रामीण जीवन की कठोर वास्तविकता, सामाजिक असमानता और मानवीय संघर्षों को चित्रित करता है। कहानी होरी नामक एक गरीब किसान के इर्द-गिर्द घूमती है, जो अपनी जमीन को बचाने के लिए जद्दोजहद करता है।

गोदान न सिर्फ एक मनोरंजक उपन्यास है, बल्कि यह भारतीय समाज की सामाजिक, आर्थिक और राजनीतिक वास्तविकता का एक गहरा दर्शन भी प्रस्तुत करता है। यह उपन्यास आज भी प्रासंगिक है और पाठकों को सोचने पर मजबूर कर देता है।


लेखक - मुंशी प्रेमचंद  Writer - Munshi Premchand

स्वर - समीर गोस्वामी Narration - Sameer Goswami

https://kahanisuno.com/

http://instagram.com/sameergoswami_kahanisuno/

https://www.facebook.com/kahanisuno/

http://twitter.com/goswamisameer/

https://sameergoswami.com

Previous episodes

  • 2182 - Godan - Part 15 | गोदान | A Novel by Munshi Premchand 
    Mon, 15 Jul 2024
  • 2181 - Godan - Part 14 | गोदान | A Novel by Munshi Premchand  
    Sun, 14 Jul 2024
  • 2180 - Godan - Part 13 | गोदान | A Novel by Munshi Premchand  
    Sat, 13 Jul 2024
  • 2179 - Godan - Part 12| गोदान | A Novel by Munshi Premchand  
    Fri, 12 Jul 2024
  • 2178 - Godan - Part 11 | गोदान | A Novel by Munshi Premchand 
    Thu, 11 Jul 2024
Show more episodes

More Indian society & culture podcasts

More international society & culture podcasts

Choose podcast genre