Bhagavad Gita Hindi

Bhagavad Gita Hindi

Yatharth Geeta

This podcast covers Gita in its True perspective. 5200 years long interval Srimad Bhagavad Gita in its authentic and everlasting exposition : The Science of Religion for Mankind : Yatharth Geeta by Swami Adgadanand.

Listen to the last episode:

श्रीकृष्ण जिस स्तर की बात करते हैं, क्रमश: चलकर उसी स्तर पर खड़ा होनेवाला कोई महापुरुष ही अक्षरश: बता सकेगा कि श्रीकृष्ण ने जिस समय गीता का उपदेश दिया था, उस समय उनके मनोगत भाव क्या थे? मनोगत समस्त भाव कहने में नहीं आते। कुछ तो कहने में आ पाते हैं, कुछ भाव-भंगिमा से व्यक्त होते हैं और शेष पर्याप्त क्रियात्मक हैं– जिन्हें कोई पथिक चलकर ही जान सकता है। जिस स्तर पर श्रीकृष्ण थे, क्रमश: चलकर उसी अवस्था को प्राप्त महापुरुष ही जानता है कि गीता क्या कहती है। वह गीता की पंक्तियाँ ही नहीं दुहराता, बल्कि उनके भावों को भी दर्शा देता है; क्योंकि जो दृश्य श्रीकृष्ण के सामने था, वही उस वर्तमान महापुरुष के समक्ष भी है। इसलिये वह देखता है, दिखा देगा; आपमें जागृत भी कर देगा, उस पथ पर चला भी देगा। ‘पूज्य श्री परमहंस जी महाराज’ भी उसी स्तर के महापुरुष थे। उनकी वाणी तथा अन्त:प्रेरणा से मुझे गीता का जो अर्थ मिला, उसी का संकलन ’यथार्थ गीता’ है। – स्वामी अड़गड़ानन्द #Krishna #Mahabharata #Yoga #Meditation

Previous episodes

  • 674 - प्राक्कथन 
    Tue, 31 Jan 2017
  • 673 - प्रथम अध्याय (संशय-विषाद योग) 
    Tue, 31 Jan 2017
  • 672 - द्वितीय अध्याय (कर्मजिज्ञासा) 
    Tue, 31 Jan 2017
  • 671 - तृतीय अध्याय (शत्रुविनाश-प्रेरणा) 
    Tue, 31 Jan 2017
  • 670 - चतुर्थ अध्याय (यज्ञकर्म स्पष्टीकरण) 
    Tue, 31 Jan 2017
Show more episodes

More Indian religion & spirituality podcasts

More international religion & spirituality podcasts

Choose podcast genre